Surya

मेहनत से उठा हूँ, मेहनत का दर्द जानता हूँ|



मेहनत से उठा हूँ, मेहनत का दर्द जानता हूँ,
आसमाँ से ज्यादा जमीं की कद्र जानता हूँ।

लचीला पेड़ था जो झेल गया आँधिया,
मैं मगरूर दरख्तों का हश्र जानता हूँ।

छोटे से बडा बनना आसाँ नहीं होता, 
जिन्दगी में कितना जरुरी है सब्र जानता हूँ।

मेहनत बढ़ी तो किस्मत भी बढ़ चली,
छालों में छिपी लकीरों का असर जानता हूँ।

कुछ पाया पर अपना कुछ नहीं माना,क्योंकि 
आखिरी ठिकाना मैं अपनी हस्र जानता हूँ।

बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ!!

Mehnat se utha hoon, mehnat ka dard jaanta hoon
aashma se jyada, zami ki kdra jaanta hoon

Lacheela ped tha jo jhel gaya aandhiya,
main magroor darakhton ka hashra jaanta hoon.

Chote se bada banana aashan nahi hota,
zindagi mein kitna zaroori hai sabra jaanta hoon.

Mehnat badhi to kishmat bhi badh chali,
chhalon me chipee lakeeron ka asar jaanata hoon.

Kuch paaya par apna kuch nahi maana, kyunki
aakhiri thikana main apni hasra jaanta hoon.

Bewaqt, be wajash, be hisab mushkura deta hoon,
aadhe dushmano ko to yun hi hara deta hoon!
Surya
माना की हम यार नहीं


माना की हम यार नहीं
लो तय है के प्यार नहीं
माना की हम यार नहीं
लो तय है के प्यार नहीं
फिर भी नज़रें ना तुम मिलाना
दिल का ऐतबार नहीं
माना के हम यार नहीं


रास्ते में जो मिलो तो
हाथ मिला ने रुक जाना
हो ओ.. साथ में कोई हो तुम्हारे
दूर से ही तुम मुस्काना
लेकिन मुस्कान हो ऐसी
के जिसमे इकरार नहीं
नज़रों से ना करना तुम बयां
वो जिसे इनकार नहीं
माना के हम यार नहीं

फूल जो बंद है पन्नो में तो
उसको धुल बना देना
बात छिड़े जो मेरी कहीं
तुम उसको भूल बता देना
लेकिन वो भूल हो वैसी
जिसे बेजार नहीं
लेकिन वो भूल हो वैसी
जिसे बेजार नहीं
तु जो सोये तो मेरी तरह
एक पल भी करार नहीं
माना की हम यार नहीं

Maana ke hum yaar nahin
lo tay hai ke pyaar nahin
maana ke hum yaar nahin
lo tay hai ke pyaar nahin
phir bhi naazre na tum milana
dil ka aitbaar nahi
maana ke hum yaar nahin

raastein mein jo milo to
hath milaa ne ruk jana
ho oo sath mein koi ho tumhare
dur se hi tum muskana
lekin muskan ho aisi
ke jismein ikraar nahin
lekin muskan ho aisi
ke jismein ikraar nahin
nazron se na karna tum bayann
woh jise inkaar nahi
maana ke hum yaar nahin

phool jo band hai pannon mein toh
usse dhul bana dena
baat chhide jo meri kahin
tum usko bhul bata dena
lekin woh bhul ho waisi
jise bejaar nahin
tu jo soye to meri tarah
ek pal bhi karaar nahin
maana ke hum yaar nahin

Surya

खुद को इतना भी मत बचाया कर




खुद को इतना भी मत बचाया कर
बारिशें हों तो भीग जाया कर

चाँद लाकर कोई नहीं देगा
अपने चेहरे से जगमगाया कर

दर्द हीरा है, दर्द मोती है
दर्द आँखों से मत बहाया कर

काम ले कुछ हसीन होंठो से
बातों-बातों मे मुस्कुराया कर

धूप मायूस लौट जाती है
छत पे कपड़े सुखाने आया कर

कौन कहता है दिल मिलाने को
कम से कम हाथ तो मिलाया कर

- शक़ील आज़मी

Khud ko Itna bhi mat bachaya kar
barishein Ho to bhig jaya kar

Chand lakar koi nnahi dega,
apane chehre se jagamagaya kar

Dard hira hai, dard moti hai
dard aakhon se mat bahaya kar

kaam le kuch haseen hothon se
bataon baton me mushkaraya kar

dhoop mayoos laut jaati hai
chat pe kapde sukhane aaya kar

kaun kahata hai dil milane ko
kam se kam haat to milaya kar

--
Shaqeel Aazmi