Surya



मै नास्तिक हूँ,..........
मै नास्तिक हूँ,.........

मै नास्तिक हूँ,
क्यूंकि मै अपनी सफलता का क्ष्रेय नही देता उस मूर्ति को,
जिसे बनाया है हममे से ही किसी शक्श ने,
मै नास्तिक हूँ,
क्यूंकि मै परीक्षा देने से पहले दीपक नही जलाता पत्थरों के आगे,
कथा यज्ञ और पूजा मी हिस्सा नही लेता,

हो सकता है की मै नास्तिक ही हूँ,
क्यूंकि और आस्तिको की तरह,
नही देता हूँ भूखो को गाली,

मै सीता की बजाय झाँसी की रानी को पसंद करता हूँ,
क्यूंकि देखा है सीताओं को अग्नि परीक्षा देते हुए,
यदि रामायण पड़कर, और आस्तिक होकर,
पत्नी को धोखा और पिता को वृधाश्रम मे रखना है,
तो मै खुश हूँ की मै नास्तिक ही हूँ......

--अज्ञात
0 Responses

एक टिप्पणी भेजें