Surya

वह प्रदीप जो दीख रहा है
झिलमिल दूर नहीं है।

थक कर बैठ गए क्या भाई !
मंज़िल दूर नहीं है।


अपनी हड्डी की मशाल से
हृदय चीरते तम का,
सारी रात चले तुम दुःख -
झेलते कुलिश निर्मल का,
एक खेय है शेष
किसी विध पार उसे कर जाओ,
वह देखो उस पार चमकता है
मंदिर प्रियतम का।
आकर इतना पास फिरे,
वह सच्चा शूर नहीं है।

थक कर बैठ गए क्या भाई !
मंज़िल दूर नहीं है।

दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर
पुण्य प्रकाश तुम्हारा,
लिखा जा चुका अनल अक्षरों में
इतिहास तुम्हारा,
जिस मिट्टी ने लहू पिया
वह फूल खिलाएगी ही,
अम्बर पर घन बन छाएगा
ही उच्छ्वास तुम्हारा।
और अधिक ले जांच,
देवता इतना क्रूर नहीं है।

थक कर बैठ गए क्या भाई !
मंज़िल दूर नहीं है।


Wah pradeep jo deekh raha hai
jhilmil door nahi hai.

Thak kar baith gaye kya bhai,
Manzil door nahi hai

Apni haddi ki mashal se
hraday cheerte tam ka,
saari raat chale tum dukh
jhelte kulish nirmal ka,
ek khey hai shesh
kisi vidh paar vse kar jao,
wah dekho us paar chamakta hai
mandir priyatam ka.

Aakar itna paas fire,
was saccha shoor nahi hai.

Thak kar baith gaye kya bhai,
Manzil door nahi hai.

Disha deept ho uthi prapt kar
punya prakash tumhara
likha jaa chuka anal akshron mein
itihaas tumhara,
jis mitti ne lahoo piya
was foor khilaegi hi
ambar par ghan ban chaega
hi uchwaas tumhara
aur adhik le jaanch
devata itna kroor nahi hain

Thak kar baith gaye kya bhai

manzil door nahi hai.

0 Responses

एक टिप्पणी भेजें