Surya

खुद को इतना भी मत बचाया कर




खुद को इतना भी मत बचाया कर
बारिशें हों तो भीग जाया कर

चाँद लाकर कोई नहीं देगा
अपने चेहरे से जगमगाया कर

दर्द हीरा है, दर्द मोती है
दर्द आँखों से मत बहाया कर

काम ले कुछ हसीन होंठो से
बातों-बातों मे मुस्कुराया कर

धूप मायूस लौट जाती है
छत पे कपड़े सुखाने आया कर

कौन कहता है दिल मिलाने को
कम से कम हाथ तो मिलाया कर

- शक़ील आज़मी

Khud ko Itna bhi mat bachaya kar
barishein Ho to bhig jaya kar

Chand lakar koi nnahi dega,
apane chehre se jagamagaya kar

Dard hira hai, dard moti hai
dard aakhon se mat bahaya kar

kaam le kuch haseen hothon se
bataon baton me mushkaraya kar

dhoop mayoos laut jaati hai
chat pe kapde sukhane aaya kar

kaun kahata hai dil milane ko
kam se kam haat to milaya kar

--
Shaqeel Aazmi
0 Responses

एक टिप्पणी भेजें